26 June 2013

Pin It

AAP Read Letter written by Arvind Kejriwal to Delhi CM Sheila Dixit

AAP Read Letter written by Arvind Kejriwal to Delhi CM Sheila Dixit


Smt. Sheila Dikshit ji,

I have received a letter written by your political secretary, Mr. Pawan Khera in which you have raised certain issues.  This letter answers those questions.  However, I am perplexed why you did not write to me directly  instead of using your staff member’s name.  A few months back you did the same thing.  I had stated in a public meeting that you are a broker of electricity companies. You probably took offense to it.  Even at that time, instead of filing a defamatory case against me in your name, you did it using Mr Khera’s name.  There is a saying in English- “A leader should lead from the front”.  Hiding behind someone, or firing from someone else's shoulder, demonstrates the weakness of a leader.

You have stated in your  letter that Delhi politics was very clean upto now, and I have muddied it. You are feeling this way because till now, there was no one to oppose you in Delhi. There was also no opposition party in Delhi.  There was match fixing between BJP and Congress. Both parties had made Delhi politics a virtual business for them. BJP and Congress are both in partnership with electricity and water companies. You kept raising  the price for water and electricity and BJP would do a farcical protest on the streets, sometimes for an hour, or a day. The citizens were being robbed, exploited and crying out in pain. But things were going well for both parties.  Both were happy. Now, suddenly Aam Aadmi Party has come forward and spoiled the game for both . On one side you are unhappy, you are saying that we have muddied Delhi politics.  On the other side BJP is also unhappy.  They too are saying that we have muddied Delhi politics. But the common citizen of Delhi is very happy. This is the first time; the common citizens of Delhi have an honest alternative.

If you really want "clean politics" then you should, immediately, take the following steps:

1. Today, in the Delhi Vidhansabha, there are 16 sitting congress MLAs, against whom serious criminal cases are going on.  How can we expect these people to sit in the Vidhansabha and pass laws against rape, murder and corruption?  Vidhansabha is a temple. This temple is defiled by the very presence of such people.  Aam Aadmi party has announced that in the coming Vidhansabha elections, we will not field a single candidate with a criminal background.  If you really want to clean up Delhi politics, you should also announce that in the coming elections, Congress too will not field any candidates with a criminal background.

2. There should be transparency in the financial donations received by political parties. Aam Aadmi  party publishes the name of every donor on its website. According to news reports, Congress has received more than INR 2,000 crores in the past 5 years. But Congress is not revealing the name of its donors.  It is being alleged that many companies involved in the coal scam have also donated to the Congress. If you publish this list on your website, then people will start to believe that you really want to engage in "clean politics".

3. Our country  today is controlled by dynasty politics . Multiple people from the same family are given party tickets. Aam Aadmi party has announced that we will not field two candidates from the same family.  I request you,  if you really want "clean politics" then you should also announce that the Congress party will not give a ticket to more than one person from the same family.  I am aware that if you announce this, then you will have to make a big sacrifice- either you or your son Mr. Sandeep Dikshit will have to retire from politics.

If you take the three above mentioned three steps, then people will believe that you really want to practice "clean politics".

You have mentioned in your letter that I have used inappropriate language towards you during the Auto-rickshaw campaign. I do not agree with this.  You tell me yourself,  what words have I used which you did not find appropriate?  I do agree that I have mentioned on multiple occasions that you are a broker for electricity companies. But is that incorrect?  You have raised the electricity prices in Delhi randomly. This has helped Tata and Ambani's electricity companies to reap large amounts of profits. But they are so greedy for money, that they have manipulated the books to show a loss of INR 20,000 crores.  The question arises, that if they have really lost so much money, then why have they not shut down their electricity companies?  I am sure you will agree Tata and Ambani have not come to Delhi to do social service, they have come to make money. Have Ambani brothers ever executed a business deal to lose money?  As soon as the Delhi Airport Metro line became unprofitable, the Ambanis ran away from that business.  Then, why are they still in the electricity business, if they have lost INR 20,000 Crores?  There is something fishy here.  Entire Delhi population is demanding an audit of these electricity companies. But you keep raising the prices without any audit. You keep saying that you are ready to conduct an audit but electricity companies are not agreeing to it. We are unable to swallow this argument.  Who is the Chief Minister- you or the electricity companies? Why is our Chief Minister powerless and ineffective against these electricity companies? Why don’t you cancel their contract if they are not willing to submit to an audit? This is where people start to wonder if Sheila Dikshit ji is a broker for electricity companies. As soon as electricity companies declared a loss of INR 20,000 Crores, you went running to the Central government, asking for a financial package to bail out Mr. Anil Ambani. But when citizens of Delhi groan under the weight of increased electricity bills, you ask them not to use air conditioning, television and refrigerator.  It is these kind of words and actions that have convinced people that that you are in cahoots with electricity companies.

More than half of the Delhi households do not have proper water supply. You have been Chief Minister for the past 15 years and in all these years you could not supply water to people’s homes?  In spite of this,  your government is spending crores of rupees on advertising and claims that you have created growth and development in Delhi.  What kind of development? and for whom?  when most people do not even have drinking water? If the money spent on advertisements had been spent instead on water, then water could have reached some households. You are the MLA of New Delhi constituency where the Prime Minister, President and ministers live. The biggest irony is that even in your constituency, households do not have proper access to water. There is an area named DIZ, which is only 3 kilometers away from the President's house. Even here there is a shortage of drinking water in people’s homes. The people get drinking water from the park. Every morning, there is a long line to get water from the park and citizens carry it in buckets upto the 4th floor. The same story gets repeated for almost half of Delhi.  It is just like, in the old days, women used to get water from the well.  Is this the development that has happened in the past 15 years of your administration?

You have alleged in your letter that in accusing your government of corruption I have insulted women. But this argument is not correct.  If a woman politician does something wrong, should she not be criticized?

It is a great tragedy that even though you are a woman, you have not understand the pain of women.  Today there are maximum number of rapes taking place in Delhi. Every woman of Delhi feels unsafe. In the morning when a girl leaves home to go to college, every parent's heart remains in their throat until their daughter comes back home safely.  Your government has done nothing to provide safety to the women of Delhi. Whenever a girl gets raped, you always say that Delhi police is not under your control.  People have elected you.  Delhi citizens do not need a Chief Minister who is so helpless and unable to deliver.  People need a Chief Minister who can provide them safety.  It is even more tragic that police are used to brutally attack people who demand justice for rape victims. False cases are lodged against them.  How can you wash your hands off the rapes happening in Delhi? Congress is in power in Delhi and Central government.  Therefore, Congress is directly responsible for the rapes that are happening in Delhi and also for the brutal attacks on the people protesting against the rapes, whether it is the congress sitting in the Centre or in Delhi.

In the last 15 years, there has been no development in Delhi, only destruction. Under the pretext of development, only corruption has taken place. People have been subjected to random and unnecessary taxes because of corruption, causing the prices of everything to sky-rocket.

I invite you to a public debate in front of the citizens of Delhi. This debate can take place at Ramlila Maidan or any other large public venue. Date and time will be as per your convenience. I know that you will never accept this challenge. But I will still wait for it. If you agree for a public debate, it will lay a solid foundation for the start of "clean politics" in the country.

In future, if you need to say anything to me, please do not hesitate to write to me directly.


Arvind Kejriwal
 Arvind's letter to Mrs. Sheila Dixit, Chief Minister of Delhi
Letter in Hindi

दिनांकः 25-06-2013

श्रीमति शीला दीक्षित जी, आपके राजनीतिक सचिव, श्री पवन खेड़ा के द्वारा लिखा पत्रा मुझे प्राप्त हुआ। इसमें आपने कुछ मुद्दे उठाए हैं जिनके जवाब मैं इस पत्रा के माध्यम से दे रहा हूं। लेकिन मैं असमंजस में हूं कि आपने यह चिट्ठी मुझे सीधे ही क्यों नहीं लिख दी, अपने स्टाफ के नाम से क्यों लिखी? अभी कुछ महीनों पहले भी आपने ऐसा ही किया था। एक जनसभा में मैंने कहा था कि आप बिजली कंपनियों की दलाली कर रहीं हैं। आप को शायद वो बुरा लगा। तब भी आपने सीध्े मेरे खिलापफ मानहानि का केस करने की बजाय श्री पवन खेड़ा जी के नाम से मेरे खिलापफ केस कराया था। अंग्रेजी में एक कहावत है- । A leader should lead from the front.किसी के पीछे छुपकर काम करना या किसी और के कंधे पर बन्दूक रखकर चलाना एक नेता की कमज़ोरी दर्शाता है।
आपने अपने पत्रा में लिखा है कि अभी तक दिल्ली की राजनीति बहुत स्वच्छ थी और मैंने इसको गंदा कर दिया। ऐसा आपको इसलिए लग रहा है क्योंकि अब तक दिल्ली में आपका विरोध् करने वाला कोई नहीं था। दिल्ली में कोई विपक्षी पार्टी थी ही नहीं। भाजपा और कांग्रेस के बीच में मैच पिफक्सिंग थी। दिल्ली की राजनीति को भाजपा और कांग्रेस ने साझा बिजनेस बना लिया था। भाजपा और कांग्रेस दोनों बिजली और पानी कंपनियों से मिले हुए हैं। आप बिजली और पानी के दाम बढ़ाती रहीं और भाजपा कभी कभार एक घंटे या एक दिन का सड़क पर प्रर्दशन करने का नाटक करती रही। जनता लुट रही थी, पिस रही थी, कराह रही थी। पर आप दोनों पार्टियों के लिए सब कुछ अच्छा चल रहा था। दोनों पार्टियां खुश थीं। अब अचानक आम आदमी पार्टी ने आकर आप दोनों पार्टियों का रायता पफैला दिया। इध्र आप दुःखी हैं, आप कह रही हैं कि हमने दिल्ली की राजनीति गंदी कर दी। उधर भाजपा दुःखी है। वो भी कह रही है कि हमने दिल्ली की राजनीति गंदी कर दी। पर दिल्ली का आम आदमी बहुत खुश हो गया है। दिल्ली के आम आदमी को पहली बार एक ईमानदार विकल्प मिला है।
अगर आप वाकई ‘स्वच्छ राजनीति’ करना चाहती हैं तो आप को तुरंत निम्नलिखित कदम उठाने चाहिए-
1. आज दिल्ली विधनसभा में कांग्रेस के 16 ऐसे विधायक है जिनके उपर संगीन अपराध के मुकदमें चल रहे हैं। ऐसे लोग विधनसभा में बैठकर बलात्कार, हत्या और भ्रष्टाचार के खिलाफ कानून कैसे बना सकते हैं? विधानसभा एक मंदिर है। ऐसे लोगों की तो मौजूदगी से ही यह मंदिर अपवित्रा हो जाता है। आम आदमी पार्टी ने ऐलान किया है कि आनेवाले विधानसभा चुनावों में एक भी आपराधिक छवि के व्यक्ति को टिकट नहीं दिया जाएगा। अगर आप वाकई दिल्ली की राजनीति को स्वच्छ बनाना चाहती हैं तो आप को ऐलान करना चाहिए कि कांग्रेस भी आने वाले चुनावों में किसी भी आपराधिक छवि वाले व्यक्ति को टिकट नहीं देगी।
2. राजनीतिक पार्टियों को मिलने वाला चंदा पारदर्शी होना चाहिए। आम आदमी पार्टी अपने सारे दान दाताओं की सूची वेबसाइट पर डालती है। खबरों के मुताबिक कांग्रेस पार्टी को पिछले पांच वर्षों में दो हज़ार करोड़ रुपयों से भी ज्यादा का चंदा मिला। लेकिन कांग्रेस पार्टी दानदाताओं की सूची नहीं बता रही। ऐसा माना जा रहा है कि कोयला घोटाले में शामिल कई कंपनियों ने भी कांग्रेस को चंदा दिया है। पर यह तो तब पता चलेगा जब आप यह लिस्ट सार्वजनिक करेगी। अगर आप यह लिस्ट वेबसाइट पर डाल दें तो लोगों के मन में विश्वास पैदा होगा कि आप वाकई ‘स्वच्छ राजनीति’ करना चाहती हैं।
3. आज हमारे देश की राजनीति को वंशवाद ने ग्रसित किया हुआ है। एक ही परिवार के कई-कई लोगों को टिकट मिल जाता है। आम आदमी पार्टी ने ऐलान किया है कि वो एक परिवार से दो लोगों को टिकट नहीं देगी। मेरा आप से निवेदन है कि यदि आप वाकई ‘स्वच्छ राजनीति’ चाहती हैं तो आपको ऐलान करना चाहिए कि कांग्रेस पार्टी भी एक ही परिवार से एक से ज्यादा लोगों को टिकट नहीं देगी। मुझे मालूम है कि यदि आप ऐसा ऐलान करती हैं तो आपको बहुत बड़ी कुर्बानी देनी होगी- या तो आपको या आपके सुपुत्र श्री संदीप दीक्षित जी को, दोनों में से एक व्यक्ति को राजनीति से संयास लेना होगा। यदि आप उपर लिखे तीनों कदम उठाती हैं तो लोगों को विश्वास होगा कि आप वाकई ‘स्वच्छ राजनीति’ करना चाहती हैं।
आपने अपने पत्र में लिखा है कि हमने अपने ऑटो कैम्पेन में आपको अपशब्द कहें हैं। मैं यह नहीं मानता। आप खुद ही बताइए कि मैंने ऐसा कौन सा शब्द कहा जो आपको ठीक नहीं लगा? मैं यह बात जरूर मानता हूं कि मैंने कई जगह यह कहा है कि आप बिजली कंपनियों की दलाली कर रही हंै। पर क्या मैंने गलत कहा? क्योंकि आपने दिल्ली में बिजली के दाम अनाप-शनाप बढ़ा दिए हैं। इससे टाटा और अम्बानी की बिजली कंपनियों को भारी मुनापफा हो रहा है। लेकिन उनको पैसे की हवस इतनी ज्यादा है कि इतना भारी मुनापफा होने के बावजूद उन्होंने अपने खातों में गड़बड़ी करके 20,000 करोड़ रफपये का घाटा दिखा दिया। प्रश्न उठता है कि अगर वाकई इतना भारी घाटा हुआ है तो टाटा और अम्बानी ने ये बिजनेस बंद क्यूं नहीं कर दिया? यह बात तो आप मानेंगी कि टाटा और अम्बानी दिल्ली में समाज सेवा करने नहीं आए, पैसा कमाने आए हैं। क्या आज तक अम्बानी बंधुओं ने अपनी जिंदगी में एक भी घाटे का सौदा किया है? दिल्ली एयरपोर्ट मैट्रो लाईन में जैसे ही घाटा होना शुरू हुआ, अम्बानी वो बिजनेस छोड़कर भाग गए। तो फिर 20,000 करोड़ का घाटा होने के बावजूद वो यहां क्यों टिके हुए हैं? कुछ ना कुछ गड़बड़ तो है। दिल्ली की सारी जनता कह रही है कि इन कंपनियों का ऑडिट कराओं। लेकिन बिना आॅडिट कराए आप बार-बार बिजली के दाम बढ़ाती जा रही हैं। आप का कहना है कि आप तो ऑडिट कराने को तैयार है, लेकिन ये बिजली कंपनिया नहीं मान रही। आप का यह तर्क गले नहीं उतरता। मुख्यमंत्राी आप हैं या बिजली कंपनियां? आखिर हमारी मुख्यमंत्री बिजली कंपनियों के सामने बेबस और लाचार क्यों है? अगर बिजली कंपनियां ऑडिट कराने को तैयार नहीं तो आप उनका लाइसेंस क्यों नहीं रद्द कर देती? यहां आकर जनता के मन में प्रश्न उठता है कि क्या शीला दीक्षित जी बिजली कंपनियों की दलाली कर रही हैं? जैसे ही बिजली कंपनियों ने कहा कि उन्हें 20,000 करोड़ का घाटा हो गया तो आप तुरंत दौड़ी-दौड़ी केंद्र सरकार के पास जाती हैं और अनिल अम्बानी को बचाने के लिए केंद्र से वित्तीय पैकेज़ मांगती हैं। लेकिन जब दिल्ली की जनता बढ़े हुए बिजली के बिलों की वजह से कराह उठती है तो आप कहती हैं कि कूलर इस्तेमाल करना बंद कर दो, टी.वी. इस्तेमाल करना बंद कर दो, फ़्रिज इस्तेमाल करना बंद कर दो। आपके इन्हीं कथनों और कर्मो की वजह से लोगों को विश्वास हो गया है कि आपकी बिजली कंपनियों से सांठ-गांठ है।
आधी से ज्यादा दिल्ली के लोगों के घरों में पानी नहीं आ रहा। पिछले 15 साल से आप मुख्यमंत्री हैं। 15 वर्षों में आप लोगों के घरों तक पानी नहीं पहुंचा पाई। इसके बावजूद आपकी सरकार दिल्ली में करोड़ो रुपये खर्च करके ईश्तहार लगा रही है। और दिल्ली में विकास होने का दावा कर रही है। कैसा विकास? किसका विकास? इन ईश्तहारों पर खर्च किए गए करोड़ो रफपये यदि पानी पर खर्च किए गए होते तो शायद कुछ घरों के लोगों तक पानी पहुंच जाता। आप खुद नई दिल्ली विधनसभा की विधायिका हैं जहां प्रधानमंत्री , राष्ट्रपति, सभी मंत्री इत्यादि रहते हैं। सबसे बड़ी बिडम्बना यह है कि आपकी अपनी विधानसभा में लोगों के घरों में पानी नहीं आ रहा। आपकी विधानसभा में एक DIZ एरिया है। यह राष्ट्रपति भवन से मात्रा 3 कि.मी. की दूरी पर है। यहां भी लोगों के घरों में पीने का पानी नहीं आता। यहां के लोग पार्क से पीने का पानी लेकर आते हैं। रोज़ सुबह पार्कों में लोगों की पानी भरने के लिए लाईन लगती है और लोग बाल्टियां भर-भर के चौथी मंजि़ल तक लेकर जाते हैं। आधी से ज्यादा दिल्ली की यही कहानी है। जैसे पुराने जमाने में महिलाएं कुएं से ढोकर पानी लाया करती थी। क्या आपके 15 वर्षों के कार्यकाल में यही विकास हुआ है?
आपने अपने पत्र में आरोप लगाया है कि आपकी सरकार के भ्रष्टाचार की बातें उठाकर हमने महिलाओं का अपमान किया है क्योंकि आप एक महिला हैं। पर ये तर्क तो ठीक नहीं है। अगर कोई महिला नेता गलत काम करे तो क्या उसकी निंदा नहीं होनी चाहिए? आप महिला है लेकिन यह बड़े दुःख की बात है कि आप महिलाओं के दर्द को नहीं समझती। आज दिल्ली में सबसे ज्यादा बलात्कार हो रहे हैं। दिल्ली की हर महिला अपने आपको असुरक्षित महसूस करती है। सुबह घर से जब कॉलेज के लिए लड़की जाती है तो मां-बाप का दिल धक् - धक् करता है जब तक शाम को वह घर नहीं लौट आती। दिल्ली की महिलाओं को सुरक्षा देने के लिए आपकी सरकार ने कुछ नहीं किया। जब भी दिल्ली में कोई बलात्कार होता है तो आप कहती हैं कि दिल्ली पुलिस आप के कंट्रोल में नहीं है। जनता ने तो आप को वोट दिया था। दिल्ली की जनता को ऐसी मुख्यमंत्री नहीं चाहिए जो इतनी बेबस और लाचार हो। जनता को ऐसा मुख्यमंत्री चाहिए जो उनकी सुरक्षा कर सके। इससे भी ज्यादा दुःखद बात ये है कि बलात्कार के खिलापफ न्याय मांगने वाले लोगों को पुलिस से बर्बरता पूर्वक पिटवाया जाता है और उन पर झूठे मुकदमें दर्ज कर दिए जाते हैं। आप दिल्ली में हो रहे बलात्कारों से पल्ला कैसे झाड़ सकतीं हैं? केंद्र और दिल्ली दोनों जगह कांग्रेस की सरकार है, तो दिल्ली में हो रहे बलात्कार और बलात्कार के खिलापफ प्रदर्शन करने वालों पर डंडे बरसाने के लिए सीधे कांग्रेस पार्टी जिम्मेदार है चाहे वो केंद्र में बैठी कांग्रेस हो या फिर दिल्ली में बैठी कांग्रेस हो।
पिछले 15 साल में दिल्ली का विकास नहीं विनाश हुआ है। विकास के नाम पर केवल भ्रष्टाचार हुआ है। भ्रष्टाचार की वजह से लोगों पर अनाप-शनाप टैक्स लगा दिए गए, जिसकी वजह से सब चीज़ें महंगी हो गई। मैं आपको दिल्ली की जनता के सामने खुली बहस के लिए आमन्त्रिात करता हूं। यह बहस रामलीला मैदान या अन्य किसी भी बड़े मैदान में हो जाए। तारीख और समय आपकी सुविध के अनुसार हो सकता है। मुझे मालूम है कि आप खुली बहस की चुनौती को स्वीकार नहीं करेंगी। लेकिन पिफर भी मुझे इंतज़ार रहेगा। यदि आप बहस के लिए तैयार होती है तो देश में ‘स्वच्छ राजनीति’ की यह एक ठोस शुरूआत होगी।
भविष्य में यदि आपको कुछ कहना हो तो आप मुझे सीधे पत्रा लिखने में संकोच मत कीजियेगा।
अरविंद केजरीवाल
Source - AAP
Reality views by sm -
June 26 2013
Tags-  AAP Arvind Letters 


Destination Infinity June 27, 2013  

Public Debate for leaders (on major issues) is something we should make compulsory. There should be a defined agenda and the EC should overlook it and broadcast it through DD or any other TV. When the US does it, why can't we do it?

Destination Infinity

SM June 28, 2013  

@Destination Infinity
yes we need to change reform our laws